×
A-  A A+
यह कविता प्रसिद्ध कवि विनय महाजन द्वारा लिखित है जिसमें मानव मूल्यों की चर्चा की गई है और कहा गया है कि पारस्परिक समरसता की भावना से ही विश्व का कल्याण हो सकता है।
License:[Source CIET ]June 7, 2021, 5:27 p.m.

New comment(s) added. Please refresh to see.
Refresh ×
Comment
×

×