×
A-  A A+
इस कविता में कवि ने प्रात: काल में उदित होते सूर्य की महिमामयी आभा के आनन्ददायी सौन्दर्य का वर्णन किया है।
More Info
License:[Source CIET ]June 7, 2021, 5:27 p.m.

New comment(s) added. Please refresh to see.
Refresh ×
Comment
×

×