×
A-  A A+

यह वीडियो दर्शक को मनुष्य के गुण व दोष के से रूप परिचित कराता है। यह श्लोक किस प्रकार व्यक्ति को गुणवान रहना चाहिए, हर व्यक्ति को किन गुणों से युक्त होना चाहिए, अथवा साहित्य का अध्ययन, संगीत, एवं कला के गुणों को अपने अंदर विकसित करना चाहिए, यह सिखाता है।
More Info


×